रविवार, 24 अगस्त 2008

क्यों होते हैं दूर अपनी जमीन से

कल ऑफिस कैब से घर को जा रही थी। ड्राइवर ने नेपाली गाने लगाए थे। बात इसी से शुरू हुई। मैंने पूछा कि आप नेपाल में कहां से हैं। फिर बातों का सिलसिला चल पड़ा। मैंने यह जानने के लिए कि नेपाल में माओवादियों के हथियार छोड़कर सत्ता पर आने को वहां के लोग कैसा समझते हैं, उनसे पूछा- और नेपाल में क्या चल रहा है? अब तो माओवादी सत्ता पर आ गए। कुछ कर रहे हैं या नहीं। ड्राइवर- अरे मैडम उनके आने से तो जिन्दगी ही बदल गयी। बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। अब तो सात साल की लड़की भी बड़े-बड़े आदमी से मुकाबला कर रही है। मैंने कहा- मतलब। ड्राइवर- मैडम इन माओवादियों ने अब छोटे-छोटे बच्चों को कराटे सिखा दिए हैं। पता है सबको स्कूल जाने के लिए कहते हैं। स्कूल जाने का पूरा खर्च तो देते हैं साथ ही दो सौ रुपया महीना भी देते हैं। बच्चों को और बड़ों को सभी को मुफ्त में कराटे सिखा रहे हैं। तभी तो जब एक सात साल की लड़की को दुकान के पास एक लड़का छेड़ रहा था तो उसने उसकी ऐसी पिटाई की कि उसकी हड्डी-पसली टूट गई। मैंने आश्चर्य जताते हुए कहा- अच्छा। ड्राइवर- हां मैडम। अब तो वहां बहुत अच्छा हो गया है। पहले तो बाहर निकलने में भी डर लगता था अब तो डर नहीं लगता। मैंने कहा कि क्यों पहले माओवादियों का डर लगता था क्या? और अब सत्ता में आने के बाद तो उन्होंने हथियार छोड़ दिये हैं। "अरे नहीं मैडम माओवादियों का नहीं, गुंडों का। अब तो अच्छा इंतजाम हो गया है।" मैंने कंफर्म करने के लिए फिर पूछा कि अच्छा फिर तो यह जो भी अच्छा हो रहा है सब दो-तीन महीने से ही हो रहा होगा ना। "हां मैडम। बहुत अच्छा काम कर रहे हैं माओवादी।" अच्छा तो फिर जब राजा होता था तब क्या अच्छा नहीं था। "मैडम तब तो जो राजा ने कहा लोग वह मान लेते थे, चाहे सही हो या गलत। पर माओवादियों ने तो सबको जगाया। जनता को बताया कि क्या गलत हो रहा है। बहुत काम किया है उन्होंने। यही नहीं वहां ना पहले एक आदमी चार-पांच शादी कर लेता था अब तो उन्होंने इस पर भी रोक लगा दी। पहले बच्ची की शादी कर देते थे। पर अब नहीं। अब तो वहां भी सब यहीं जैसा हो गया है।" अरे वाह, चलो अब तो विकास भी होगा। "हां मैडम, अब तो वहीं जाने का दिल करता है। पहले तो वहां स्थिति ठीक नहीं थी तो यहां चले आए थे। पर अब यहां मन नहीं लगता। वहीं जाने का मन करता है।"
तब तक मेरा घर भी आ गया। गाड़ी से उतरते वक्त मैं यही सोच रही थी कि बेहतर की तलाश में ही लोग अपना मुल्क छोड़कर दूसरे देश में चले जाते हैं। काश सभी लोगों को अपनी ही जमीन में अपने ख्वाब पूरा करने का मौका मिल जाए तो फिर उन्हें अपने मुल्क से दूर होने का दर्द नहीं सालेगा।

5 टिप्‍पणियां:

Anil ने कहा…

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी

महेंद्र मिश्रा ने कहा…

bahut sateek abhivyakti. dhanyawaad.

अभिषेक ओझा ने कहा…

सच है पर सम्भव? मुश्किल है !

lalit ने कहा…

अच्छी पोस्ट है। लेकिन ये नेपाल में ऐसा हो रहा है यह जानकर आश्चर्य हुआ।

सागर नाहर ने कहा…

काश भारत के सभी माओवादी भी हथियार छोड़ कर मुख्यधारा में शामिल हो कर भारत की प्रगति के लिए काम करने लगे तो कितना बढ़िया हो।
फिलहाल तो गहरी साँस लेकर ये ऊलूलजूलूल और संभव नहीं होने वाली कल्पनायें कर रहा हूँ।